क्यूंकि बहरी, भ्रष्ट है सरकार, अब सरकार ये बदल दो..


मिला मौका है इस बार, कि इतिहास अब बदल दो.
न करनी परे फिर से शिकायत, ये हालत अब बदल दो..
मिली आजादी विरासत में हमें, इसे स्वराज में अब बदल दो,
क्यूंकि बहरी, भ्रष्ट है सरकार, अब सरकार ये बदल दो..

अपने नहीं ये हमारे,
ना इनको देश का ही है ख्याल..
ये तो तुर्कों से है लुटेरे,
बुनते हर घडी लूट की चाल..

जनमानस की छोड़ ही दो आप,
इनको माँ भारती का भी ख्याल नहीं..
पकरे गए खरबों की चोरी में,
फिर भी आँखों में है इनके शर्म नहीं..

बख्शी थोड़ी इज्जत है,
जो कह दीया हमने सरकार,
जो दिल से पूछो तो कहूँ,
है यही असली गद्दार..

कभी हमें रंगों में बाँटते,
कभी दीन, दिशा के नाम पर,
देश का दुर्दशा कर दिया,
वोट पाते गाँधी के नाम पर..

इनको नहीं दीखते सपने स्वराज के,
इनको नहीं करनी अब चर्चा, लोकपाल की.
ये तो गूंगे, बहरे लोग है,
क्यूँ इनसे उम्मीदें बेकार की..

यही समय है सोच लो अब आप,
किसको जीते हो,
दिल से हो हिंदुस्तानी,
या अधिकार बस वोटों का रखते हो..

है जमीर जागा हुआ,
या आप भी उनसे हो,
जो नहीं तो फिर क्यूँ,
आप विज्ञापनों पे मरते हो?

आँखे खोलो देखों,
किस हाल में माँ भारती,
जो कर सके सुपरिवर्तन,
अब उसी का साथ दो..

है मुझें उम्मीद खुद से,
ऐतबार आप पे करता हूँ..
इसीलिए अपनी मन की बात,
आप तक सीधे रखता हूँ..

मिला मौका है इस बार, कि इतिहास अब बदल दो.
न करनी परे फिर से शिकायत, ये हालत अब बदल दो..
मिली आजादी विरासत में हमें, इसे स्वराज में अब बदल दो,
क्यूंकि बहरी, भ्रष्ट है सरकार, अब सरकार ये बदल दो..

Advertisements

भाजपा में बढ़ा मोदी राग


Narendra Modi

नई दिल्ली [जागरण ब्यूरो]। गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम पर भाजपा में हलचल तेज है। यशवंत सिन्हा के बाद अब पार्टी के निलंबित नेता राम जेठमलानी ने फिर से मोदी गान शुरू कर दिया है। वहीं, थोड़ी आशंकित कांग्रेस जदयू के जरिये राजग में दरार डालने का अवसर ढूंढ़ रही है। माना जा रहा है कि खुद को सीधे मोदी पर केंद्रित करने के बजाय कांग्रेस धर्मनिरपेक्षता का मुद्दा उठाकर चुनाव से पहले ही भाजपा को अलग-थलग करने की कोशिश करेगी।

भाजपा में जहां मोदी को तुरुप का पत्ता माना जा रहा है, वहीं बयानबाजी के कारण थोड़ी उलझन भी बढ़ने लगी है। मंगलवार को शिवसेना ने अपनी ओर से मोदी की बजाय सुषमा स्वराज का नाम बढ़ा दिया। पार्टी प्रवक्ता संजय राउत ने कहा कि पूर्व शिवसेना प्रमुख बाला साहेब ठाकरे ने सुषमा को प्रधानमंत्री के योग्य बताया था। पार्टी उसी पर कायम है। जबकि जेठमलानी ने यशवंत सिन्हा के सुर में सुर मिलाते हुए मोदी को न सिर्फ योग्य, बल्कि धर्मनिरपेक्ष प्रधानमंत्री उम्मीदवार बताया।

यशवंत सिन्हा ने सोमवार को कहा था कि यदि किसी को मोदी पर एतराज है तो वह भाजपा से अलग जाने के लिए स्वतंत्र है। वहीं, जेठमलानी ने कहा कि मोदी को प्रधानमंत्री पद का दावेदार बनाना पार्टी के लिए ही नहीं, देश के लिए भी हितकर होगा। बिहार प्रदेश भाजपा के पूर्व अध्यक्ष सीपी ठाकुर ने भी मांग की है कि प्रधानमंत्री पद के दावेदार पर जल्द फैसला होना चाहिए।

ऐसे में भाजपा नेतृत्व उलझन में है। दरअसल, पार्टी नेतृत्व चाहता है कि सार्वजनिक बयानबाजी से बचते हुए उचित अवसर की प्रतीक्षा की जाए। पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने नेताओं को सुझाव दिया है कि पार्टी फोरम पर ही अपनी आवाज उठाएं।

दूसरी ओर गुजरात के बाद अब केंद्रीय राजनीति में धमक दिखा रहे मोदी से कांग्रेस भी आशंकित है। वह पूरी सतर्कता से भाजपा व उसके सहयोगी दलों, खासकर जदयू पर नजर रख रही है। सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस अवसर देखकर मोदी के बहाने राजग में दरार डाल सकती है। कांग्रेस सीधे मोदी का नाम नहीं लेगी, लेकिन वक्त आने पर जदयू पर उसका हमला बढ़ेगा। जदयू को धर्मनिरपेक्षता की याद दिलाई जाएगी। जदयू पहले ही यह संकेत दे चुका है कि बतौर प्रधानमंत्री उम्मीदवार पार्टी को मोदी मंजूर नहीं हैं। कांग्रेस की रणनीति यह है कि राजग में दरार के बाद जदयू उसका दामन पकड़े या न पकड़े, फायदा उसे ही मिलेगा। बताते हैं कि मोदी पर भाजपा के कदम बढ़ते ही कांग्रेस अपना दांव चलेगी।

मोदी के बारे में फैसला लेंगे राजनाथ : उमा

लखनऊ [जागरण ब्यूरो]। वरिष्ठ भाजपा नेता व मध्य प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती का कहना है कि गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की पार्टी में भूमिका का फैसला राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह लेंगे। प्रधानमंत्री पद को लेकर भाजपा में कोई विवाद नहीं, केवल कांग्रेस अपने राजनीतिक हित साधने को ऐसा दुष्प्रचार कर रही है।

मंगलवार को पत्रकार वार्ता में उमा भारती ने कहा कि भाजपा में एक नहीं अपने ऐसे नेता मौजूद है जो प्रधानमंत्री पद के दावेदार है परन्तु विवाद नहीं। भाजपा में सभी फैसले सामूहिकता से लिए जाते है। उचित समय पर ही सही फैसला लिया जाएगा। मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी की पार्टी में भूमिका के सवाल पर उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय अध्यक्ष राजनाथ सिंह को इस बारे में निर्णय लेंगे। उन्होंने कांग्रेस को आड़े हाथ लेते हुए कहा भाजपा में प्रधानमंत्री पद को लेकर किसी विवाद की बात केवल कांग्रेस की देन है। कांग्रेस में लोकतंत्र नहीं है। एक परिवार के इर्दगिर्द ही पूरी कांग्रेस की राजनीति घूमती है।

कांग्रेस में एक परिवार के कृपापात्र ही पीएम या पदों पर आसीन होते है। उन्होंने कहा कांग्रेस के दुष्प्रचार से भाजपा नेताओं को भी बचना चाहिए और प्रधानमंत्री पद को लेकर किसी बयान से बचना चाहिए। कोई चर्चा केवल पार्टी फोरम पर ही होनी चाहिए।

सिने अभिनेता शाहरुख खान की सुरक्षा को लेकर पनपे विवाद पर उमा भारती ने कहा पाकिस्तान को अपनी चिंता अधिक करनी चाहिए क्योंकि पूरी दुनिया में भारत से अधिक सुरक्षित मुस्लिम कहीं नहीं। उन्होंने कहा कि खुद शाहरुख खान को रहमान मलिक की टिप्पणी पर सफाई दे देनी चाहिए वरना उनकी सहमति मानी जाएगी। उमा का कहना था कि जब अमेरिका में शाहरुख खान की घटिया तरीके से जांच की गई थी तो तब पाकिस्तानी नेताओं की गैरत नहीं जागी थी।

नीतीश पीएम पद के सबसे योग्य उम्मीदवार

पटना [जागरण ब्यूरो]। नरेंद्र मोदी को राजग की ओर से प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाने संबंधी भाजपा नेता यशवंत सिन्हा के बयान से गुस्साए जदयू के वरिष्ठ नेता हरिकिशोर सिंह ने अपनी भड़ास निकाली।

उन्होंने कहा कि सिन्हा को आरएसएस ने ही वित्त मंत्री पद पर बने रहने नहीं दिया था। लालकृष्ण आडवाणी के बहुत कहने पर अटल बिहारी वाजपेयी ने उन्हें विदेश मंत्री बनाया था। विदेश राज्य मंत्री रह चुके हरिकिशोर बुधवार को संवाददाताओं से बात कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनने के लिए नरेंद्र मोदी का भी अन्य नेताओं जितना ही अधिकार है। लेकिन इस पद के लिए सबसे बेहतर उम्मीदवार बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार हैं। पिछले लोकसभा चुनाव में प्रदेश में उनके नेतृत्व में राजग ने 40 में से 32 सीटें जीती थीं। 2014 में यहां राजग 40 में से 40 सीटें जीतेगा। ऐसा कौन नेता है, जो अकेले अपने बूते इतनी बड़ी जीत दिलाए?

[Originally Posted in Dainik Jagran]