आज एक और दिसम्बर बीत गया..


Image

दिन बदलते-बदलते,
अब ये बरस भी बदल गया।
धीरे धीरे ही सही ये,
मंजर सारा बदल गया।
द्रुत रफ़्तार से बढती जिंदगी,
उस मोड़ से आगे निकल गयी,
जहाँ दोस्तों का निर्मोह साथ था,
वो मोड़ अब पीछे छुट गया।
एक मयूरी जहाँ मिलती थी,
जहां छोटे बच्चो संग मस्ती किया करते थे,
अपने धुन में खो खुद की करना,
वो ज़माना अब पीछे छुट गया।।
जिंदगी मुझे मिली थी दिसम्बर में,
आज एक और दिसम्बर बीत गया।

Towards my way….


It is midnight,
there is no light,
I’m walking all alone,
Hoping a ray,
Towards my way….

Don’t know when
but i forget again,
I lost my way,
as i lost today…

Recalling the day,
to find a way,
but I’m not able,
not enough capable,
I wondered and lost it all again,
going to have more pain again…

It is midnight,
there is no light,
I am walking all alone….

Hoping a ray,
Towards my way…

Recalled my day and
what i found-
everything for me,
is now far away…

She didn’t broke,
She didn’t hurt-ed,
don’t know why, how?
but i get hurt-ed..

Felling broke,
and depressed,
walking slowly,
on the street..

Still hoping the ray,
My Swwweeeeetttttiiiiiiiiieeeeeeee’s way.