गाँव में हो रही नई कोशिशें


पिछले १ महीने से गाँव में डिजिटल साक्षरता का अभियान चलाया जा रहा था और हर रविवार को गाँव के छात्र छात्र मीटिंग करते थे, आज पंचायत भवन परिसर में उन्हीं बच्चों को पुरस्कृत किया गया. इस मौके पर बाबा श्री सत्यानन्द चौधरी ने विद्यार्थियों को सम्बोधित करते हुए उन्हें सत्मार्ग पर चलते हुए विद्यार्थी के कर्तव्यों के बारे में बताया, उन्होंने खरौना को शिक्षा के मामले में संपन्न बताते हुए कहा की बिहार में शायद ही ऐसा कोई गाँव हो जहाँ इतने ज्यादा शैक्षणिक संस्थान हो, जहाँ इतनी कोशिशें की जा रही हो. बाबा ने डिजिटल साक्षरता के सफल प्रतिभागियों को आगे ईमानदारी से पढने की भी सलाह दी और कहा की कंप्यूटर और फोन के बिना आज के शिक्षित समाज की कल्पना मुश्किल है और ऐसे में हम सब को डिजिटल साक्षर बनाना चाहिए. उन्होंने कार्यक्रम संचालक सन्नी कुमार को इस तरह के आयोजन के लिए धन्यवाद दिया और तन-मन-धन से अपने गाँव के विकास के लिए किये जाने वाले कार्यक्रम में अपनी भागीदारी को लेकर आश्वासन भी दिया.
पुरस्कार वितरण से पूर्व, हर रविवार की भांति इस रविवार गाँव के छात्र ने सामूहिक चर्चा करते हुए गाँव में शिक्षा के माहौल पर चर्चा की और इस साप्ताहिक कार्यक्रम की एक रुपरेखा भी तैयार की जिससे सभी विद्यार्थियों का फायदा हो. इस मौके पर प्रिये रंजन, रवीना खातून, रवि कुमार, सोनम कुमारी, अन्नू कुमारी, मयंक पराशर, सिद्धार्थ, सुशांत कुमार आदि उपस्थित थे.
इस कोशिश में आप सब भी आमंत्रित है, आइये और देखिये खरोना बदल रहा है.

डिजिटल साक्षरता कार्यक्रम खरौना में सम्पन्न


भारत सरकार द्वारा चलाये जा रहे, राष्ट्रिय डिजिटल साक्षरता मिशन साक्षरता कार्यक्रम का आज खरौना में समापन हुआ| इस कार्यक्रम का लाभ गाँव के लगभग ४० लोगों ने लिया जिनमे अधिकांश गरीब परिवार से थे. कार्यक्रम में सफल छात्र छात्रों को डिजिटल साक्षर का प्रमाण पत्र भी दिया गया. यह ट्रेनिंग Future Institute of Management Technology and Science, Patna और ग्रामीणों के सहयोग से चलाया गया था.

सरस्वती पूजा आज, उत्साह में डूबा गाँव


Basant-Panchami-Kharaunaखरौना, बासंती नवरात्र की पंचमी तिथि आज (शुक्रवार) को है। इस अवसर पर मां सरस्वती की पूजा को लेकर गाँव  उत्साहित है। हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी गाँव में सरस्वती पूजा को लेकर लोगों, खासकर विद्यार्थियों के बिच काफी उत्साह है, बताते चले की गाँव में लगभग हर मोहल्ले में साथ ही समस्त विद्यालयों में माता सरस्वती जी का विदिहिवत पूजा किया जाता है। शक्ति स्थल, नवोदय विद्यालय, शीतल उच्च विद्यालय, मध्य विद्यालय खरौना टाँड,मध्य विद्यालय खरौना  डीह, के साथ साथ लगभग सारे ब्रह्म  स्थानों पे सार्वजानिक पूजा का आयोजन किया जाता है, बसंत पंचमी के स्वागत में आज पूरा गाँव हर्ष में डूबा रहेगा और विद्या की माता सरस्वती की पूजा प्रत्येक घर में होगी।

—————————————————————————
मूर्ति विग्रह का संदेश
मां सरस्वती श्वेत वस्त्र धारण करती हैं और हंस वाहन है। इसका मतलब है कि लोगों का जीवन स्वच्छ व चरित्रवान होना चाहिए। हमारा ज्ञान निर्मल हो, विकृत नहीं। हाथ में पुस्तक का मतलब मनुष्य को अध्ययनशील होना चाहिए। उनके हाथ में माला से चिंतन करते रहने का संदेश है। हंस वाहन होने से मनुष्य में नीर क्षीर विवेक का गुण होना चाहिए। नदी किनारे बैठने का मतलब विद्यार्थियों को एकांत में रहकर विद्या अध्ययन करना चाहिए। तस्वीर में उगते सूर्य का होना। अध्ययन के लिए प्रात: का समय ही उपयुक्त है। वीणा से आशय संगीत साधना ही नहीं बल्कि संपूर्ण सांस्कृतिक गतिविधियों में सक्रियता होनी चाहिए। हाथ में किताब पुस्तकों के प्रति लगाव का द्योतक है।
———————————————————————————-
बसंत पंचमी क्यों
बसंत पंचमी पर मां सरस्वती की पूजा अर्चना को लेकर अनेक धार्मिक किवदंतियां हैं। कहते हैं कि ब्रह्मा जी ने जब सृष्टि की रचना करने के बाद देखा तो उसमें कुछ कमी नजर आई। इस कमी को पूरा एक चतुर्भुजी स्त्री की रचना से की। ब्रह्मा जी ने उनके हाथों में रखी वीणा बजाने का अनुरोध किया। वीणा बजाते ही मधुर नाद से संसार के समस्त जीव-जंतुओं को वाणी प्राप्त हो गई। जड़ चेतन हो गया। तब उस देवी को वाणी की देवी सरस्वती कहा।

कुढ़नी में खुला धान क्रय केन्द्र


कुढ़नी (मुजफ्फरपुर), प्रतिनिधि : प्रखंड परिसर स्थित नवनिर्मित गोदाम में शुक्रवार को धान खरीद केन्द्र का उद्घाटन विधायक मनोज कुशवाहा ने किया। अध्यक्षता बीसीओ भुवन प्रसाद सिन्हा ने की जबकि संचालन पैक्स संघ के प्रखंड अध्यक्ष नवल किशोर यादव ने किया। पैक्स अध्यक्षों ने प्रखंड मुख्यालय पर कम से कम तीन केन्द्र खोलने की मांग की। विधायक ने इस संबंध में डीएम से बात कर इसका निदान निकालने का आश्वासन दिया। सेंट्रल को-ऑपरेटिव बैंक के उपाध्यक्ष महेश राय ने किसानों को धान का उचित मूल्य देने की सलाह पैक्स अध्यक्षों को दी। बता दें कि धान का दर प्रति क्विंटल 1250 से 1280 रुपये सरकार द्वारा निर्धारित है। मौके पर शंभू पासवान, दिनेश झा, संजय पासवान, बह्मदेव सिंह आजाद, संजय कुमार, सीओ अशोक कुमार सिंह आदि उपस्थित थे।

Posted In Dainik Jagran News

मुजफ्फरपुर से भी है मिस यूनिवर्स प्रतिभागी का नाता


समस्तीपुर, मुजफ्फरपुर। अमेरिका के लास बेगास में 19 दिसंबर को होने वाली मिस यूनिवर्स प्रतियोगिता में भारत का प्रतिनिधित्व कर रहीं शिल्पा सिंह [23 वर्ष] का बचपन मुजफ्फरपुर में बीता है। वह समस्तीपुर जिले के सिंधिया थाना क्षेत्र के विष्णुपुर डीहा गांव के सुरेश कुमार सिंह की पुत्री हैं। उनके पिता इंडियन ऑयल में सेल्स मैनेजर थे। शिल्पा को जब जन्म हुआ था तो उसके पिता मुजफ्फरपुर में पदस्थापित थे।

शिल्पा के मिस यूनिवर्स प्रतियोगिता में देश का प्रतिनिधित्व करने से उनके परिवार के साथ पूरे गांव में खुशी का आलम है। सब उनकी कामयाबी की दुआ मांग रहे हैं। शिल्पा के बड़े भाई सलभ कुमार सिंह बताते हैं कि मिस यूनिवर्स के लिए उनकी बहन का चयन राष्ट्रीय सौंदर्य प्रतियोगिता-आई एम शी-2012 के माध्यम से हुआ। इस प्रतियोगिता में वे फ‌र्स्ट रनर-अप रहीं। विजेता उर्वशी रौतेला का आयु ज्यादा होने के कारण मिस यूनिवर्स प्रतियोगिता में भाग नहीं ले सकीं तो उनकी जगह शिल्पा को चुन लिया गया। लास बेगास में यह प्रतियोगिता 19 दिसंबर को होगी, मगर भारत में इसका सीधा प्रसारण 20 दिसंबर की सुबह 6:30 बजे ‘जी कैफे चैनल’ पर देखा जा सकेगा। इसमें विश्व के 89 देशों की सुंदरियां भाग ले रही हैं।

मुजफ्फरपुर में जन्मीं शिल्पा ने पढ़ना-लिखना भी वहीं के नॉर्थ प्वाइंट पब्लिक स्कूल में सीखा। यहां उन्होंने यूकेजी से कक्षा दो तक की पढ़ाई की। 1992 में उनके पिता का ट्रांसफर जमशेदपुर हो गया। वहां के डीबीएमएस स्कूल में तीसरी कक्षा में शिल्पा का नामांकन हुआ। मगर एक साल बाद पुन: पिता का ट्रांसफर रांची हो गया, जहां के सेक्रेट हार्ट स्कूल से शिल्पा ने 7वीं तक पढ़ाई पूरी की। इसके बाद उनका परिवार मुंबई चला गया और शिल्पा ने केंद्रीय विद्यालय आइआइटी में दाखिला लिया, जहां से बारहवीं कक्षा तक की पढ़ाई की। मुंबई की ही एसवीकेएम यूनिवर्सिटी से उन्होंने कंप्यूटर साइंस में बीटेक किया। फिलहाल वे इंफोसिस कंपनी में कार्यरत हैं।Shilpa

(Dainik Jagran News)

छिनतई व छेड़खानी के खिलाफ सड़क जाम


मड़वन (मुजफ्फरपुर), निप्र : हवाई अड्डा क्रासिंग के समीप एक महिला से चेन छीनने के बाद छेड़खानी करने व पुलिस द्वारा मौके पर कार्रवाई नहीं करने से आक्रोशित ग्रामीणों ने एनएच 102 को जाम कर दिया। ग्रामीणों का आरोप था कि पुलिस यदि पीछा करती तो अपराधी पकड़े जाते। ग्रामीणों ने कहा कि तिरहुत नहर पर अवैध दारू-ताड़ी की दुकानें होने से अपराधियों का जमावड़ा होता है। तुर्की ओपी द्वारा गश्त नहीं की जाती। सड़क जाम की खबर मिलते ही सदर थानाध्यक्ष शंभू भगत वहां पहुंचे और पूर्व जिला पार्षद विनोद चौधरी के नेतृत्व में ग्रामीणों से बात की जिसके बाद हंगामा शांत हुआ। बताया गया कि शनिवार की शाम सात बजे तुर्की ओपी के खरौना की एक महिला बाजार से घर लौट रही थी। हवाई अडडे के रास्ते जैसे ही बाइपास क्रासिंग पर पहुंची, कुछ अपराधियों ने उसे घेर लिया और चेन छीन कर छेड़खानी करने लगे। इसी बीच एक ग्रामीण वहां पहुंचा और उसने पुलिस को इसकी सूचना दी। करजा पुलिस वहां पहुंची और लोगों की बात सुने बिना ही ठोकर मारते हुए भाग निकली। ठोकर से मुकेश कुमार व रंजीत चौधरी जख्मी हो गए। इसे देख ग्रामीण आक्रोशित हो उठे और सड़क जाम कर दी।

बरखास्त होंगे 87 मुखिया


मुजफ्फ़रपुर : मनरेगा की राशि पंचायत में होने के बावजूद मजदूरों को रोजगार नहीं देने वाले 87 मुखिया बरखास्त होंगे. डीएम संतोष कुमार मल्ल ने इसकी अनुशंसा पंचायत विभाग के प्रधान सचिव से की है. डीएम ने बताया, ग्रामीण विकास विभाग के प्रधान सचिव के निर्देश के आलोक में विभाग की ओर से निर्धारित श्रम दिवस प्राप्त करने के लिए सभी पंचायतों को कहा गया था. जांच के क्रम में सीपीएमएस ने पाया गया, 92 पंचायतों में 10 लाख से अधिक राशि शेष है, लेकिन पंचायत के मुखिया विकास कार्य में रुची नहीं ले रहे हैं. इस कारण पंचायत का विकास कार्य प्रभावित हो रहा है. मजदूरों को रोजगार नहीं मिल रहा है. श्रम दिवस का सृजन लक्ष्य के तुलना में काफ़ी कम है. इसके आलोक में सभी 92 पंचायत के मुखिया से स्पष्टीकरण की मांग की गयी. केवल पांच पंचायत के मुखियाओं ने ही जवाब दिया. 87 पंचायत के मुखियाओं ने न तो राशि खर्च की और न ही स्पष्टीकरण का जवाब ही दिया. डीएम ने 87 मुखिया के विरुद्ध पंचायत अधिनियम की धारा 18 (5) के तहत कार्रवाई की अनुशंसा की है. मुखियाओं की सूची मीनापुर के सात शिवबालक पासवान, जामिन मठिया, अनीता शरण, बड़ा भारती, गीता देवी, मदारीपुर कर्ण, सुरेंद्र महतो, पीपराहा असली, सदमीन फ़ातमीस मनिकपुर , मो शाबिर, घौसौत, सुधीर कुमार, गौड़ीगामा. बोचहां के 10 पानो देवी, सहिलारामपुर, मो फ़िरोज आलम, बलथी रसुलपुर, सुधा भारती, नरकतिटया, महेश चौधरी, मैदापुर, विपिन कोइराला, पटियासा, विशुन देव सहनी, कर्णपुर दक्षिणी, सीताराम साह, आदि गोपालपुर, मीरा देवी, नरमा, उर्मिला देवी, उनसर, धर्मशीला देवी, कफ़ेन चौधरीऔराई के छह मंजू देवी, घनश्यामपुर, अजमेरी खातून, राजखंड उत्तरी, पूर्णिमा देवी, औराई, कृष्णा देवी, जनार जीवाजोर, अन्नू देवी, आलम पुर शिमरी, संजय कुमार गुप्ता, धरहरवा.मुशहरी के पांच चुल्हया देवी, झपहां, आशा देवी, मानिक विशुनदत्त चांद, पूनम कुमारी, अब्दुल नगर, रीना देवी, तरौरा गोपालपुर, आशा श्रीवास्तव, शेरपुर.गायघाट के चार बबीता देवी, लक्ष्मणनगर, धनवती देवी, कांटा पिरौछा उत्तरी, अंजू देवी, कांटा पिरौछा दक्षिणी, उर्मिला देवी, शिवदाहासाहेबगंज के तीन राजकुमारी देवी, रामपुर असली, रामनिवास सहनी, हुस्सेपुर रत्ती, गायत्री देवी, अहियापुरपारू के पांच मधुबाला सिन्हा, जाफ़रपुर, राधा देवी, कमलपुरा, शारदा देवी, देवरिया पश्चिमी, रीता देवी, मोहजम्मा, नरेश राम, कोयरिया निजामतमोतीपुर के आठ केशव प्रसाद सिंह, मंगुराहा ताजपुर, मो अरसद, बासघाट, नसीमा खातून, बरुराज पूर्वी, उर्मिला देवी, बरियारपुर दक्षिणी, उमेश कुमार, बरियारपुर पूर्वी, अनीता देवी, नरियार, कलावती देवी, कल्याणपुर हरौना, फ़ूलवंती देवी, बरुराज पश्चिमीसरैया के चार रामप्रवेश राय, रेपुरा रामपुर विश्वनाथ, शंकर महतो, बसैठा, सुमित्रा देवी, चक्रइब्राहिम, मालती देवी, रारामपुर. कुढ़नी के 11 ऊषा देवी, किशुनपुर मधुबन, रीना देवी, खरौना डीह, श्यामनंदन कुशवाहा, छाजन हरिशंकर, मनोज कुमार सहनी, हरिशंकर मनियारी, चिंता देवी, केरमा डीह, बमभोला सहनी, छितरौली, मनोज कुमार, शाहपुर मरीचा, आरती देवी, पकाही, उर्मिला देवी, जमरूहआ, कांति देवी, किशुनपुर मोहनी, निलोफ़र यासमीन, लदौरा. मड़वन के सात उमाशंकर राय, गवसरा, नजमा खातून, जीयन खुर्द, राजकुमार राम, शुभकंरपुर, इंदू देवी, बड़का गांव दक्षिणी, मो सैयद जान, मखदूमपूर कोदरिया उत्तरी, मुन्नी देवी, मोहम्मदपुर खाजे, गुलशनआरा, रक्साकांटी के पांच विश्वनाथ गुप्ता, पानापुर हवेली, रानी देवी, मुस्तफ़ापुर, मो अनवारुल हक आजाद, बहुआरा, सुदर्शन मिश्रा, शेरुकांही, मो हबीबूर रहमान, झिटकांही मधुबनसकरा पंचायत के सात अंजली कुमारी, गौरीहार खालीक नगर, नीलम देवी, मिश्रौलिया, विमल देवी, राजापाकर, विमला देवी, हरलोचनपुर, महाजनी देवी, शिराजाबाद, सुरेंद्र प्रसाद, डिहुली इसहाक, सोहन प्रसाद, चंदन पट्टीकटरा के पंचायत पांच महाताप लाल बैठा, तेहवारा, सुरैया जिमल, बंधपुरा, महजबी, हथौरी, नवीन ठाकुर, जजुआर मध्य, विनोद कुमार दास, बसघट्टा. मुखिया संघ की बैठक आज मुजफ्फ़रपुर 87 मुखिया को बरखास्त किये जाने की अनुसंशा को लेकर मुखिया संघ की आपात बैठक बुधवार को होगी. संघ के अध्यक्ष प्रियदर्शिनी साही ने बताया, बैठक में मामले पर विचार किया जायेगा. साथ ही मुखिया संघ भी मामले की अपने स्तर से जांच करवायेगा. इसके बाद संघ कोई फ़ैसला लेगा. – प्रभात कुमार –

News Posted in Prabhat Khabar On 29th February

Some old News Posted on Kharauna in various News Paper-

चलेगा स्पीडी ट्रायल : एसएसपी

ग्रामीणों में कंस्ट्रक्शन कंपनी के प्रति रोष

राष्ट्रपति स्काउट पुरस्कार से सम्मानित होंगे 15 छात्र

अंडरपास निर्माण को लेकर प्रदर्शन

खरौनाडीह महादलित बस्ती की बदलेगी सूरत

खरौनाडीह के होमात्मक शतचंडी महायज्ञ में उमड़ रही भीड़

मनरेगा जांच को रोस्टर तैयार

पैसे हैं पर पैक्स नहीं खरीद रहे धान, होगी कार्रवाई