बिहार में मूसलधार बारिश


बिहार में मूसलधार बारिश.

Advertisements

स्वतंत्रता दिवस का तोहफा, पेट्रोल होगा सस्ता


Petrol Price

खरौना खबर | ख़ुशी की खबर.

नई दिल्ली। मोदी सरकार अपने पहले स्वतंत्रता दिवस पर जनता को पेट्रोल की कीमतों में कमी का तोहफा देने जा रही है। पेट्रोलियम मंत्री धर्मेद्र प्रधान ने कहा है कि 14/15 अगस्त की मध्यरात्रि से पेट्रोल की कीमत 2.38 रुपये तक घट जाएगी। पेट्रोल की कीमतें सरकार के नियंत्रण से बाहर होने के बाद संभवत: यह पहला मौका है जब सरकार के मंत्री ने पेट्रोल की कीमतों में बदलाव का एलान किया है। राजग सरकार के कार्यकाल में पेट्रोल की कीमतों में यह सबसे बड़ी कटौती होगी।

पेट्रोल के सस्ता होने को सरकार की तरफ से महंगाई से परेशान जनता को राहत देने की कोशिशों के तौर पर देखा जा रहा है। प्रधान ने बुधवार को ट्वीट कर जानकारी दी कि 15 अगस्त से पेट्रोल के दाम 1.89 रुपये से लेकर 2.38 रुपये तक घट जाएंगे।

इससे पहले मंगलवार को ही इंडियन ऑयल के चेयरमैन ने इस आशय के संकेत दिए थे। लेकिन, पेट्रोलियम मंत्री ने इसकी आधिकारिक पुष्टि कर दी है। इसे स्वतंत्रता दिवस से भी जोड़ कर देखा जा रहा है। 15 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लालकिले से अपना पहला भाषण देंगे। पेट्रोल की कीमतों में कटौती केबाद इसकी कीमतें एक साल के न्यूनतम पर आ जाएंगी।

आमतौर पर पेट्रोल डीजल की कीमतों में बदलाव को लेकर उसी दिन एलान किया जाता है। लेकिन, पेट्रोलियम मंत्री ने इसकी घोषणा करीब 31 घंटे पूर्व ही कर दी है। कीमतों में बदलाव की घोषणा भी तेल कंपनियों द्वारा ही की जाती है।

चूंकि राजग सरकार के लिए यह बड़ा मौका है कि 15 अगस्त के दिन से कटौती लागू हो रही है और प्रधानमंत्री अपना पहला भाषण लाल किले से देंगे। साथ ही राजग सरकार के कार्यकाल में पेट्रोल की कीमतों में सबसे बड़ी कटौती भी है। लिहाजा इसे जनता को राहत देने के रूप में देखा जा रहा है।

तेल कंपनियों ने पहली अगस्त को ही पेट्रोल की कीमतें 1.09 रुपये प्रति लीटर के हिसाब से घटाई थीं। माना जा रहा है कि डॉलर के मुकाबले रुपये की मजबूती ने तेल आयात की लागत घटाई है। साथ ही अंतरराष्ट्रीय बाजारों में भी कच्चे तेल [क्रूड] की कीमतों में नरमी के समाचार मिल रहे हैं। इसका असर भी तेल कीमतों पर पड़ा है। जानकार मान रहे हैं कि अगर अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल की कीमतों का रुख यही बना रहा तो पेट्रोल की कीमतों में आगे भी कमी हो सकती है।

ये हो जाएंगे दाम-

शहर , अभी , बाद में

दिल्ली , 72.51 , 70.33

कोलकाता , 80.30 , 78.03

मुंबई , 80.60 , 78.32

चेन्नई , 75.78 , 73.47

[सभी दरें रुपये प्रति लीटर में हैं]

[खरौना खबर को शेयर कीजिये और अन्य खरौना प्रेमियों तक पहुँचने में हमारी मदद करें. सराहना, सुझाव एवं शिकायत के लिए कमेंट करें. ]

खरौना

Nitish Kumar Resigns today after huge defeat


After facing a huge defeat in Lok Sabha Election and being asked from opponents parties of Bihar, Today Bihar Chief Minister Nitish Kumar has resigned. His Janata Dal United won just two of Bihar’s 40 seats.

Before national election, last year only he had snapped ties with 17-year-old ally BJP last year over Narendra Modi’s elevation, a move that many believed had backfired spectacularly.

As BJP won a landslide victory with 282 seats in the 543 member Parliament and defeated all self proclaimed secular parties, Nitish’s JD(U) has also been wiped out.

Yesterday, on fb he written that he respect the mandate of the people. After his party’s crushing defeat, BJP leader Sushil Kumar Modi, and his former deputy, asked Nitish Kumar to give resign on moral grounds. JD(U) was already in a minority in the Bihar assembly and there was speculation the dissent within his party will grow, with support from the opposition.

This coming election may help BJP and RJD both to grow but people of Bihar will certainly give mandate to development and i think fight will be in between RJD and JD(U).

पार्लियामेंट पहुंचने का शॉर्ट टर्म कोर्स


चाय पीने वालों को भी निराश होने की जरूरत नहीं, आपको अपनी नौकरी छोड़कर चायवाला बनने की सलाह नहीं देंगे. चाय वाले चाय बनाते हुए सैटेलाइट, डीटीएच, इंटरनेट और मोबाइल के इस्तेमाल से चाय को और टेस्टी बनाया करेंगे और आप भी चाय पीते हुए आराम से उसमें सैटेलाइट, डीटीएच, इंटरनेट और मोबाइल का जायका लीजिए! मिला न मोदी जी का नायाब तोहफा.

हमेशा की तरह एक बार फिर हमारे बहुचर्चित ‘पीएम इन वेटिंग’ नरेंद्र मोदी जी चर्चा में हैं. वह इस बार खूनी पंजे के खतरों से आगाह नहीं कर रहे हैं बल्कि फुटपाथ पार्लियामेंट बनाने के लिए चर्चा में हैं. घबराइए मत केजरीवाल की तरह यहां हंगामा नहीं मचने वाला, भगदड़ नहीं मचेगी और आपके हाथ-पैर भी सलामत रहेंगे. दरअसल मोदी जी साधारण चाय बनाने वालों को हाइटेक चाय बनाने की सलाह दे रहे हैं.

पीएम इन वेटिंग के साथ चाय पीना कोई छोटी बात नहीं लेकिन मोदी जी की दानवीरता देखिए वे अपनी बड़ी सी ‘पीएम इन वेटिंग’ की हस्ती को चाय की दुकान वालों के साथ बैठकर चाय पीने के लिए कुर्बान कर रहे हैं. तो अब चाय की स्टॉल पर चाय बनाते हुए चायवालों, सतर्क हो जाओ! ‘पार्लियामेंट पहुंचने का शॉर्ट टर्म कोर्स’ सीखना है या नहीं!

चाय पीने वालों को भी निराश होने की जरूरत नहीं, आपको अपनी नौकरी छोड़कर चायवाला बनने की सलाह नहीं देंगे. चाय वाले चाय बनाते हुए सैटेलाइट, डीटीएच, इंटरनेट और मोबाइल के इस्तेमाल से चाय को और टेस्टी बनाया करेंगे और आप भी चाय पीते हुए आराम से उसमें सैटेलाइट, डीटीएच, इंटरनेट और मोबाइल का जायका लीजिए! मिला न मोदी जी का नायाब तोहफा. तो मोदी जी से नाराज मत होइए कि वे बस हर चीज चाय वालों के लिए ही कर रहे हैं. आपके लिए एकदम नायाब हाइटेक चाय का तोहफा है भई! मजे लीजिए इस बेहतरीन चाय के!
अब चर्चा करते हैं ‘चाय पर चर्चा’ के फायदों की

narendra-modis-chai-pe-charcha-campaignइसके केवल यही दोतरफा फायदे नहीं बल्कि चौतरफा फायदे हैं. चाय बनाने के हुनर में माहिर मोदी जी 2 करोड़ लोगों को न केवल चाय बनाने वालों को पार्लियामेंट में आने के गुर सिखाएंगे बल्कि चाय के साथ इंग्लिश की चीनी कैसे तैयार की जाती है यह भी सिखाएंगे. इस चाय चर्चा पर वे बड़े ही भोले अंदाज में अपने अंग्रेजी के शब्दों को चाय की चीनी में घोलकर बताते हैं कि किस तरह वे चाय बनाते हुए आगे आए और पार्लियामेंट तक पहुंच गए.

डूबते को मजबूत खंभे का सहारा चाहिए

भले ही अभी तक मोदी जी प्रधानमंत्री बने नहीं हैं लेकिन प्रधानमंत्री की दावेदारी लेना भी कोई छोटी बात नहीं! चार बार लगातार दूध संपदा में धनी गुजरात को अपनी मीठी चाय से प्रभावित करना और मुख्यमंत्री बनना भी आसान नहीं है. इसलिए ‘चाय की चर्चा’ मीटिंग में मोदी जी अपने ‘देश की मनी’ को ‘ब्लैक मनी’ बनाकर बाहर रखने वालों के इन काले कारनामों को कैसे हराया जाय और कैसे उस ब्लैक मनी को व्हाइट मनी कर देश में पाई-पाई रुपया वापस लाया जाय यह भी सिखाएंगे. इतना ही नहीं इस शॉर्ट टर्म कोर्स में पर्लियामेंट तक पहुंचने के लिए किस प्रकार की शक्कर और गुड़ इस्तेमाल कर लोगों को प्रभावित करना चाहिए, किस प्रकार वादे करने चाहिए यह भी सिखाया जाएगा. तो सभी चाय वालों, तैयार हो जाओ! अगर फुटपाथ पार्लियामेंट बनाना है तो मोदी जी की ‘हाइटेक चाय चर्चा’ में शामिल होना है.

 

Originally posted in Dainik Jagran

Robert Vadra deal records ‘confidential’: Is PMO protecting him?


vadraThe prime minister’s office has refused to share information under the guise of ‘confidentiality’ on its affidavit in response to a petition seeking a probe into Robert Vadra’s land deals. Vadra is Congress president Sonia Gandhi’s son in-law.

Lucknow-based RTI activist Nutan Thakur sent a letter to the PMO seeking a probe in Vadra’s deals after Aam Aadmi Party’s Arvind Kejriwal and lawyer Prashant Bhushan alleged that he was involved in shady and irregular land deals.

She also sought the Allahabad high court’s intervention in the case. The PMO contended in an affidavit that there was no merit in Thakur’s case as it was based on media reports and hearsay. The court dismissed the case on March 7.

In February, Thakur also filed a request under the Right to Information Act asking the PMO what action it had taken on her letter seeking a probe against Vadra. She also sought information on the PMO’s affidavit in the Allahabad high court. She told dna that she just wanted to know the ‘file notings’ related to action taken by the PMO. On March 1, the PMO refused to share the information, and said that the information cannot be provided to her since the matter was “sub-judice”.

Thakur sent a second RTI request to the PMO, seeking the same information in May. With the matter now being out of court, the PMO was in a position to respond to the RTI request. However, on June 6, the PMO again refused to furnish the information. “The office, keeping in view the Supreme Court ruling, has sought exemption as the matter
has been treated as confidential,” the PMO said.

The PMO was referring to an apex court ruling which states that “the exemption under section 8(1) (e), of the RTI Act, is available not only in regard to information that is held by a public authority in a fiduciary capacity, but also to any information that is given or made available by a public authority to anyone else for being held in a fiduciary capacity.”

“In other words, anything given and taken in confidence expecting confidentiality to be maintained will be information available to a person in fiduciary relationship,” the PMO said quoting the Supreme Court ruling.

However, Thakur is not convinced with the PMO’s argument. “The PMO claims that all the representations coming to its office are forwarded to appropriate agency. I only wanted to know the action taken on my representation. I still don’t know that,” Thakur told dna.

“This shows that the PMO is not in favour of transparency.”

 

Originally Posted in DNA news.

Book your train tickets from mobiles from July 1


Book Tiket From MobileFrom July 1, you will be able to book your train ticket through your mobile phone at a cost of Rs. 6.

IRCTC has developed a software, providing two options of using the mobile phone to book tickets. The SMS process or the menu-based USSD (Unstructured supplementary data) can be used to book tickets at the designated number, which will be released later.

Railway Minister C.P. Joshi will launch the scheme on July 1.

IRCTC has decided to notify later the designated number for purchase of tickets through mobiles.

Passengers will have to register their mobile numbers with IRCTC and 26 banks that are providing the facility before booking the ticket which is a two-SMS process — at the cost of Rs. 3 per SMS.

The revenue for the mobile service providers come from the two SMSes and no other extra charge will have to be paid by the ticket purchaser.

Banks will charge payment gateway at the rate of Rs. 5 for any transaction below Rs. 5,000 and Rs. 10 for an amount in excess of this.

IRCTC is introducing the mobile wallet concept, from which the ticket fare and its service charge will be deducted.

The advantage of the service is that tickets can be booked from anywhere in the country with a mobile tower reach.

IRCTC has claimed that the mobile phone process will be faster, reliable and secure and no hard copy of the ticket will be necessary while undertaking the journey. The SMS confirmation will be valid.

 

Source- The Hindu Newspaper