बापू नोटों पर कब आए, आरबीआइ को ही नहीं पता


Indian Noteभारतीय मुद्रा की विशेष पहचान के रूप में उसमें अंकित राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की फोटो को देखा जा सकता है। मगर पहले बापू की फोटो अंकित नहीं होती थी। अस्सी के दशक तक किसी व्यक्ति विशेष की जगह राष्ट्रीय प्रतीक चिह्न चार शेरों वाली मूर्ति एवं अन्य वस्तुओं की फोटो नोटों में छपती थी। अचानक 90 के दशक में महात्मा गांधी की फोटो नोटों में छापी जाने लगी। यह कब हुआ, कैसे और किसके आदेश पर हुआ, इसकी जानकारी न सरकार को है और न ही रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया को। इस तथ्य का खुलासा सूचना के अधिकार (आरटीआइ) के तहत मांगी गई जानकारी से हुआ है।

आरटीआइ कार्यकर्ता नरेंद्र शर्मा ने केंद्र सरकार और आरबीआइ से जानकारी मांगी थी कि नोटों में बापू की फोटो छापने का निर्णय किस दिनांक और किस वर्ष लिया गया। यह भी पूछा गया था कि यह निर्णय किस आदेश से लिया गया था, उस विभाग और उन अधिकारियों के नामों की जानकारी दी जाए। इस पर केंद्र और आरबाइआइ ने बताया कि सभी नोटों पर वॉटर मार्क एरिया में महात्मा गांधी की फोटो मुद्रित करने की सिफारिश 15 जुलाई, 1993 और नोट में दाहिनी तरफ बापू का चित्र मुद्रित करने का सिफारिश 13 जुलाई, 1995 को आरबीआइ ने केंद्र सरकार को की थी। यह निर्णय केंद्र सरकार ने कब लिया, कब लागू हुआ और किस तारीख से महात्मा गांधी की फोटो भारतीय नोटों पर छापने का कार्य शुरू हुआ। इसकी जानकारी उनके पास उपलब्ध नहीं है।

-WebSource

[खरौना खबर को शेयर कीजिये और अन्य खरौना प्रेमियों तक पहुँचने में हमारी मदद करें. सराहना, सुझाव एवं शिकायत के लिए कमेंट करें. ]

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s