है समय से ये आजाद..


I don’t drink but i love to sit with my cousins, friends and colleagues when they get booze. I have experienced a lot of fun and came to know more and more about them, i must say a real self came out once people get drink.

This post is dedicated to all my friends, who have given me chance to sit with them and enjoy their oscar winning performances ;)

बड़ी सीधी है बातें इनकी ,
नवाबों सा है अंदाज.
आँखों में छाये मस्ती,
है समय से ये आजाद..

नाम उनका तब बताएं,
जब हो कोई वो ख़ास.
ये मगरूर दीवाना है,
होता हर किसी के आस-पास..

न उम्र इनकी पूछो तुम.
ये जवां हुआ फिर आज.
है गम-ए-मुहब्बत सीने में इनके ,
फिर भी मुस्कुरा कर, करते समय पर राज़.

टूट जाए जो डोर पतंगों के,
और फिर जो हो जाये आजाद,
कुछ तबियत इनकी भी ऐसी ही है,
ये भी झूमते, उड़ते, गिरते उसी अंदाज..

दिन में दीन मिलते है,
ये तो रातों के सौदागर है.
पता बस झीलों का होता है,
पानी तो सर्व व्यापक है..

2 thoughts on “है समय से ये आजाद..

  1. Pingback: छियासठ ने किया सफाचट | Mission Sharing Knowledge

  2. Pingback: मुंबई गैंगरेप: केस सुलझाने का दावा, सभी आरोपी गिरफ्तारhttp://www.khaskhabar.com/newsimage/small75/mumbai-gang-rape.jpg | khabar express

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s