मोदी को पीएम बनाने को कुंभ में संत लामबंदी करेंगे


modi king देश के उद्योगपति ही नहीं तमाम संत भी गुजरात के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री पद पर आसीन होते देखना चाहते हैं। संतों का ऐसा ही एक वर्ग मोदी को प्रधानमंत्री बनाने के लिए इलाहाबाद कुंभ के दौरान लामबंदी करते नजर आएंगे। संतों के इस समूह को लगता है कि हिंदू धर्म एवं संस्कृति की रक्षा मोदी के नेतृत्व में ही संभव है। महाकुंभ में होने वाली संत सभाओं में धर्म के अलावा देश की दिशा एवं राजनीति पर भी चर्चा होती है। इन सभाओं में मोदी के पक्ष में माहौल बनाने की योजना का खुलासा मुंबई संन्यास आश्रम के प्रमुख स्वामी विश्वेश्वरानंद महाराज ने किया है। सूरतगिरी बंगला पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर विश्वेश्वरानंद ने ‘दैनिक जागरण’ से कहा कि वह हिंदू धर्म से जुड़े संतों और संगठनों के साथ पिछले दो वर्ष से चर्चा करते आ रहे हैं। पिछले वर्ष अहमदाबाद के निकट चरोडी गांव में हुई हिंदू धर्म आचार्य सभा में देश भर से आए 115 से अधिक प्रमुख संतों के बीच उन्होंने संघ प्रमुख मोहन भागवत से प्रधानमंत्री पद के लिए मोदी के नाम का समर्थन करने की अपील की थी। इस सभा में विहिप नेता अशोक सिंहल के अलावा स्वयं नरेंद्र मोदी भी उपस्थित थे। स्वामी विश्वेश्वरानंद कहते हैं कि वह राजनीतिक व्यक्ति नहीं हैं, लेकिन एक सामान्य नागरिक की हैसियत से संतों को भी देश का भला-बुरा सोचना चाहिए। मेरा मानना है कि मौजूदा हालात में मोदी ही देश को सही नेतृत्व दे सकते हैं, क्योंकि उन्होंने भूख, पीड़ा एवं असहाय वर्ग की तकलीफ को खुद महसूस किया है और उनमें निर्णय लेने की क्षमता भी है। पश्चिम भारत के प्रमुख संतों में एक स्वामी विश्वेश्वरानंद ने कुंभ के बाद देश के कई राजनीतिक दलों के प्रमुखों को पत्र लिखकर भी मोदी के पक्ष में माहौल बनाने की योजना बनाई है। इनमें उन दलों पर उनका खास जोर होगा, जो कभी न कभी भाजपा के साथ रहे हैं।

(Hindi news from Dainik Jagran, news national Desk)

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s