खरौना के युवक गुस्साए, स्वीट सिटी मुजफ्फरपुर पेज को बताया फर्जी ख़बर चलाने वाला


वैसे तो फेसबुक अफ़वाह और अधकचरेे खबरों से पटा ही रहता है पर कई बार इन अफवाहों को फैलाने वालों को पता नहीं होता कि उनकी इन गैर जिम्मेदाराना वाहियात हरकतो पर जब किसी जागरूक व्यक्ति या समाज की नजर पड़ेगी तो न केवल उनको अनैतिक और झूठा साबित कर देगी बल्कि उनको कानूनी कार्यवाही का भी सामना करना पड़ सकता है। ऐसा ही एक मामला आज शाम का है जिसमें स्वीट सिटी मुजफ्फरपुर नाम से चलने वाले फेसबुक पेज ने एक बहुत बड़ी गलती की थी। दरअसल इस पेज ने एक ख़बर लिखा था जिसमें मोतीपुर के किसी विद्यालय में हुए एक घटिया घटना की जिक्र थी जिसमे कुछ उद्दडो ने Teachers को बंधक बना कर एक छात्रा के मांग में सिंदूर डाला था और इस थर्ड ग्रेड खबर को चलाते वक्त मूर्ख पेज कंट्रीब्यूटर ने इसमें शीतल उच्च विद्यालय खरौना डीह का फोटो लगा दिया था।

जैसे ही यह पोस्ट वायरल हुआ खरौना के युवाओं ने सख्ती से एडमिन को उससे हुई भूल की जानकारी दी पर शुरुआत में तो पेज से खरौना के युवाओं के कमेंट डिलीट किए गए और फिर जब मेसेज इस पेज के एडमिन के नम्बर पर जाने लगा तब उसने एक और धूर्तता दिखाई और जिन नंबर से मैसेज गए उनको ब्लॉक करना शुरू किया और फिर पोस्ट को एडिट कर उसमे यह जोड़ दिया कि फोटो सिर्फ सांकेतिक है घटना स्थल का नहीं है। पर इन लम्पटों को पता होना चाहिए था कि उसके इस धूर्तता को समझना तो खरौना डीह के प्राइमरी विद्यालय के छात्रों को आता है, यहां तो मामला उच्च विद्यालय का था फिर क्या वॉट्सएप से कई और मैसेज गए और कानूनी कार्यवाही की जब चेतावनी दी गई तब इस पेज ने पोस्ट तो हटा लिया है।

अब जरा सोचिए कि ऐसे चिरकुट पेज हर रोज न जाने कितने फर्जी खबर डालते होंगे तभी इनकी इतनी हिम्मत होती है, पर आज मामला खरौना का है, इनको सीख मिल गई है अन्य चैनल वाले भी इस बात का ध्यान रखे की खरौना गांव से सम्बन्धित कोई भी फर्जी ख़बर चलाने से बचे।

उन युवाओं का विशेष आभार जिन्होंने तुरन्त रिएक्ट कर पोस्ट को हटवाया। उम्मीद है यह फ़ेसबुक पेज इस ख़बर को और अपने भूल को भी लिखने का साहस करते हुए खरौना वासीयों से माफी मांगेगा। एडिट हिस्ट्री की स्क्रीन Recording और अन्य साक्ष्य सुरक्षित है जो जरूरत पड़ने पर इस्तेमाल किया जा सकेगा।

खरौना डीह पंचायत में हो गई अनुरक्षकों की बहाली


पिछले दो दिनों में कई पोस्ट फेसबुक और ब्लॉग पर पढ़ने को मिला की कुछ वार्ड में जल तो है पर नल नहीं जिसकी जानकारी के लिए मैंने आदतन पंचायती राज के वेबसाइट को खंगाला और पाया कि पंचायत के किसी भी वार्ड में नल योजना का काम पूरी तरह से सम्पन्न नहीं हुआ है और भौतिक स्थिति आंशिक पूर्ण ही है।
पंचायती राज के वेबसाइट पर उपलब्ध रिपोर्ट के अनुसार कई वार्ड (वार्ड संख्या १,४, ९,११ और १३) का खर्च और भौतिक स्थिति अद्यतन भी नहीं है पर अनुरक्षक बोले तो मोटर ऑपरेटर की बहाली सभी वार्ड में हो रखी है, जिसकी जानकारी मै पोस्ट में अटैच कर रहा हूं पर मुझे विश्वास है आपके लिए यह जानकारी भी फ़िज़ूल ही होगी क्योंकि आप सब तो केबिनेट का चयन करने में महरूफ है! ऐसा इसलिए कि सांझे से चचा लोग फलनवा को मंत्री न बनाए जाने/हटाने से नाराज़ है। कुछ खुश भी है कि मोदीजी ने मास्टर स्ट्रोक मार दिया और ऐसे पोस्ट देखकर मुझे एक विश्वास हो जाता है कि हमारे लोग पंचायत स्तर के मसले पर ध्यान देकर अपनी नाक छोट नहीं करेंगे! ये वही लोग है जो विधान सभा चुनाव के समय कमला हैरिस और जो बिडेन के लिए प्रचार करते रहे और इधर फूल मुरझा गया!
खैर उम्मीद छोटे भाइयों से है जो जय फलाना तय ढिकाना से फिलहाल दूर है और अगला प्रश्न उन्हीं लोगो से है- “भाइयों एक बात बताओ कि जब तुम फेसबुक पर यह लिखते हो कि नल जल में खूब घोटाला हुआ तो फिर इसकी शिकायत क्यों नहीं करते??” टॉल फ़्री नंबर है, माना कि वेटलिस्ट में लंबा समय खर्च होता है पर अब तो वॉट्सएप से भी शिकायते दर्ज हो रही है फिर भी सब के सब नदारथ हो। खैर तुम्हारे बगैर भी ज़ीरो नहीं मिला है और वार्ड संख्या ६ से एक कम्पलेन दी गयी थी और देने वाले ने इस बात का कभी शोर भी नहीं मचाया न कोई भावी उम्मीदवार है और ये बहुत अच्छी बात है। उनका नाम/नंबर हटा के स्क्रीनशॉट लगा रहा हूं, और बता रहा हूं कि जब वो कर सकते है तो तुम भी करो। वैसे भी सुविधा लो न लो चार्ज जल्दी ही लगेगा और न देने पर नोटिस का भी प्रावधान हो रिया है।
अब बात भावी उम्मीदवारों से कि क्या आप लोगों की चुप्पी अपनी बारी का इंतजार कर रही है, आप में से तो कई लोग “मै भी चौकीदार” वाला डीपी भी लगाते हो फिर चौकीदार चोर नहीं है और वर्तमान से बेहतर साबित होंगे सिद्ध तो कीजिए।
अगर अगर आपका प्रश्न है की शिकायत कैसे करे तो यहां पढे+
#BiharNalJalYojnaComplaintNumber
नल जल योजना के तहत पेयजल आपूर्ति में बाधा होने पर आप 9122400777 पर व्हाट्स एप, 18603455555 नंबर पर फोन और मोबाइल एप prdshikayat.bgsys.co.in पर सूचना दे सकते हैं. इस पर समय-सीमा के भीतर अविलंब कार्रवाई होगी. साथ ही सूचना देने वाले को कार्रवाई के बारे में जानकारी दी जायेगी. यह व्यवस्था राज्य सरकार के पंचायती राज विभाग ने शुरू की है. तो अब अगर कोई शिकायत है तो फ़ेसबुक पर नहीं सही जगह पर अपनी बात रखने की कृपा करे।

अंततः सभी अनुरक्षको को रोजगार की बधाई, आपका चयन कैसे हुआ यह गूढ़ रहस्य किसी और दिन!! आम सभा क्यों नहीं होता का जवाब जोड़ते चलिए। जय खरौना।
आभार। शुभ रात्रि।

क्रमांकजिलाप्रखंडपंचायतवार्डयोजना का नामकुल आवंटनकुल खर्चभौतिक स्थिति
1.MUZAFFARPURKurhaniKHARAUNA DIHWARD-15नल जल10910001091000आंशिक पूर्ण
2.MUZAFFARPURKurhaniKHARAUNA DIHWARD-14नल जल १13380001300000आंशिक पूर्ण
3.MUZAFFARPURKurhaniKHARAUNA DIHWARD-14नल जल २10810001081000आंशिक पूर्ण
4.MUZAFFARPURKurhaniKHARAUNA DIHWARD-09नल जल20544000 
5.MUZAFFARPURKurhaniKHARAUNA DIHWARD-08नल जल योजना 211910001191000आंशिक पूर्ण
6.MUZAFFARPURKurhaniKHARAUNA DIHWARD-08नल जल पार्ट 121240001191000आंशिक पूर्ण
7.MUZAFFARPURKurhaniKHARAUNA DIHWARD-06नल जल योजना 1933000933000आंशिक पूर्ण
8.MUZAFFARPURKurhaniKHARAUNA DIHWARD-06नल जल योजा पार्ट २943000943000आंशिक पूर्ण
9.MUZAFFARPURKurhaniKHARAUNA DIHWARD-07नल जल योजना 116000001315000आंशिक पूर्ण
10.MUZAFFARPURKurhaniKHARAUNA DIHWARD-01पेयजल निश्चय योजना19477000 
11.MUZAFFARPURKurhaniKHARAUNA DIHWARD-10नल जल योजना18000001240000आंशिक पूर्ण
12.MUZAFFARPURKurhaniKHARAUNA DIHWARD-05पेयजल निश्चय योजना15020001250000आंशिक पूर्ण
13.MUZAFFARPURKurhaniKHARAUNA DIHWARD-12मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल योजना10020001000000आंशिक पूर्ण
14.MUZAFFARPURKurhaniKHARAUNA DIHWARD-03मयख़्यमंत्री ग्रामीण पेयजल योजना वार्ड 316020001300000आंशिक पूर्ण
15.MUZAFFARPURKurhaniKHARAUNA DIHWARD-02मुख्यमंत्री ग्रामीण पेजयल निश्चय योजना 11002000500000 
16.MUZAFFARPURKurhaniKHARAUNA DIHWARD-11मुख्यमंत्री ग्रामीण पेयजल निश्चय योजना 110020000 
17.MUZAFFARPURKurhaniKHARAUNA DIHWARD-04नल जल योजना 110000000 
18.MUZAFFARPURKurhaniKHARAUNA DIHWARD-13नल जल योजना 110000000
नल जल योजना स्थिति खरौना डीह

#नल_जल_योजना की #खरौनाडीह पंचायत में स्थिति
#अनुरक्षक #नल_जल

Credit: https://prdnischaysoft.bih.nic.in/nischaysoft/WardProfileUpdatedReport.aspx

Sl. No.
WARD NAME
Member Name
Member Mob.
Secretary Name
Secretary Mob.
Working Anurakshak
Anurakshak Mobile
IOTSystem
ElectricityConn
1
WARD-01
RENU DEVI
6202211516
SURESH SAH
9709974025
SURESH KUMAR GUPTA
9709974025
0
0
2
WARD-02
SUJITA RAY
8969342199
RAJIV KUMAR
9570292992
RAJEEV KUMAR
9102314341
0
0
3
WARD-03
SHARDA DEVI
912
SUKHA DEVI
9507885674
SULEKHA DEVI
9507885674
0
0
4
WARD-04
AASH MOHAMMAD
9939830748
ADITYA KUMAR
7461891769
NAVIN KUMAR CHAUDHARY
8873802068
0
0
5
WARD-05
SHASHI RANJAN KUMA
9431434115
MANISH CHAUDHARY
9748052262
MANISH KUMAR CHAUDHARY
9748052262
0
0
6
WARD-06
SHARVAN MANJHI
8877949211
KANCHAN DEVI
7549524307
KANCHAN DEVI
7549524307
0
0
7
WARD-07
DILIP KUMAR
9507745034
RAVI SHANKAR KUMAR
7542963424
RAVI SHANKAR KUMAR
7542963424
0
0
8
WARD-08
MAMTA DEVI
9534408471
SARITA DEVI
9507755996
AMRESH CHAUDHARY
0
0
0
9
WARD-09
NAJMA KHATOON
9955305613
MD ASFAK
9199615705
MD. ASFAK
9199615705
0
0
10
WARD-10
INDU DEVI
8578935306
AMIT KUMAR
7992419205
NIRMALA DEVI
0
0
0
11
WARD-11
SITA DEVI
8579985760
MINA DEVI
7568904538
VEENA DEVI
8579985760
0
0
12
WARD-12
CHATTHU CHAUDHARI
8757341346
DHIRAJ KUMAR
7563983802
SANTOSH CHAUDHARY
0
0
0
13
WARD-13
JAY PRAKASH CHAUDHARY
7079079073
RAMA CHAUDHARY
9576277346
AMARNATH CHAUDHARY
0
0
0
14
WARD-14
BHIKHARI RAM
8084607267
SAROJ KUMAR
6201022554
SAROJ KUMAR
6201022554
0
0
15
WARD-15
MINTA DEVI
7033795083
SUDHA DEVI
7033795085
SUDHA DEVI
7033795083
0
0

पैसा उठाया पर शुरू नहीं किया काम


खरौना डीह पंचायत में पैसा उठाने के महीनों बाद भी सड़क निर्माण(PCC) कार्य नहीं हो पाया है शुरू।

खरौना डीह पंचायत के वार्ड संख्या १० में गणेश चौधरी के घर से रामजतन चौधरी के घर होते हुए दिलीप झा के घर तक पीसीसी सड़क निर्माण कार्य प्रगति में है ऐसा नरेगा के वेबसाइट पर उल्लखित है, इससे सम्बन्धित बिल भी किसी “आदर्श ट्रेडर्स” को निर्गत किया जा चुका है जिसका स्क्रीनशॉट(क्रम संख्या 201 और 202) पोस्ट में नीचे संलग्न कर रहा हूं जबकि सच्चाई यह है कि यहकायह अब तक शुरू भी नहीं हुआ है।
ऐसी ही जानकारी इसी पंचायत के एक और सड़क के लिए है और वहां भी कोई काम अब तक शुरू नहीं हुआ है। इस वेबसाइट पर जो जानकारी दी गई है उसके हिसाब से गांव में अगर जांच हो तो सरकार के हर योजना में व्यापक भ्रष्टाचार के साक्ष्य है, चाहे बात सड़क निर्माण की हो, विद्यालयों में मिट्टी भरने का, पौधारोपण, नल-जल या जल जीवन हरियाली, पंचायत का काम और सरकारी डेटा में कहीं कोई मैच ही नहीं है और अगर पंचायत प्रतिनिधि जो अब परामर्श समिति में बदल दिए गए है, को अपनी प्रतिष्ठा का ख्याल है तो उनसे आग्रह है कि वो इसकी जांच कराए, आखिर जो काम हुआ नहीं उसका पैसा कैसे उठ रहा, और कहीं अधिकारियों ने गांव का हक तो नहीं मारा है या कोई और टेक्निकल Gap है, इसे आमजन को समझाए ये भी आपकी जिम्मेदारी है।

जागरूक लोगों से अपील है कि आप सब पंचायत में हुए विकास कार्यों की समीक्षा करे, सरकार ने पिछले पांच वर्षों में विभिन्न मद में पंचायत को करोड़ो रुपए दिए है और इसका सदुपयोग हो इसकी जिम्मेदारी पंचायत प्रतिनधियों पर है पर इन सबने मिलकर पिछले 5 साल में एक बार भी आम सभा नहीं बुलाया, न आपको ये किसी फंड की जानकारी देंगे ऐसे में आप के पास सरकारी वेबसाइट है, सरकारी ऐप्स है उनको खंगालिए और खुद तय कीजिए।

जो लोग समर्थ रखते है वो इसकी शिकायत सम्बन्धित कार्यालयों में करे या हमें मार्गदर्शन दे, मीडिया बन्धुओं, युवाओं से अपील है कि भ्रष्टाचार के मुद्दों को बढ़ चढ़ कर उठाए और सरकार तक गांव की सच्चाई पहुंचाए।
(पेज को आपके समर्थन की आश्यकता है, सहयोग करे। आभार।।)

जय खरौना

पैक्स मेंबर बनने के लाभ


पैक्स सदस्यता हेतु ऑनलाइन आवेदन

बिहारपैक्स सदस्य के लिए ऑनलाइन आवेदन 2019 से शुरू है | पहले इसके लिए ऑनलाइन आवेदन की व्यवस्था नहीं थी | आप सभी लोग घर बैठे पैक्स मेंबर बन सकते हैं जिसके लिए आप लोगों को कुछ स्टेप को फॉलो करने होंगे जिसकी मदद से आप पैक्स सदस्य बन सकते हैं |
इसके लिए आपको कोई भी शुल्क नहीं देने हैं | बनने के लिए आप लोगों को आधार कार्ड, वोटर – कार्ड ,पासपोर्ट साइज फोटो, बैंक अकाउंट डिटेल्स (जैसे कि अकाउंट नंबर, आईएफएससी कोड ) यह सारी जानकारी भरना और अपलोड करना होगा | तो चलिए जानते हैं कैसे हमलोग पैक्स सदस्य के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं |
पैक्स मेंबर बनने के लाभ –यदि आपलोग पैक्स सदस्य बन जाते हैं तो आप लोगों को धान एवं गेहूं की अधिप्राप्ति के रूप में अनुदान दिया जाता है |इसमें आप लोगों को फसल के लिए अधिप्राप्ति के माध्यम से समर्थन मूल्य किसानों को दिया जाता है | साथ ही कोऑपरेटिव बैंक से आप लोगों को केसीसी लोन भी दिया जा सकता है |बिहार पैक्स सदस्य ऑनलाइन बनने से पहले महत्वपूर्ण निर्देश:ऑनलाइन आवेदन करने से पहले एप्लीकेंट को यूजर आईडी एंड पासवर्ड बनाना अनिवार्य हैयदि आप यूज़र आईडी और पासवर्ड बनाना चाहते हैं 110 के ऑनलाइन के लिए तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें http://mobapp.bih.nic.in/epacsmember/Register.aspxपैक्स सदस्यता के लिए ऑनलाइन आवेदन करने से पहले फोटो का साइज 50 केवी से कम में करके रख ले और हस्ताक्षर 20 केवी से कम का होना अनिवार्य है|आवेदन करने से पहले आपके पास वैद्य प्रमाण पत्र (जैसे कि आधारकार्ड , राशनकार्ड, बिजली का बिल) और निवास प्रमाण पत्र का स्कैन किया हुआ 200 केबी से कम का पीडीएफ फाइल होना चाहिए | यदि आपको फॉर्म भरने में कोई भी टेक्निकल इश्यू आ रहा हो तो आप विभाग के ऑफिशियल मेल epacshelp@gmail.com पर संपर्क करें

विकास की बहती गंडक में नहाया खरौना डीह पंचायत- भाग-२


आप सब पढ़े लिखे है, सम्पन्न है और आपके पास अपना डिजिटल डिवाइस है तभी आप यह पोस्ट पढ़ पा रहे है पर आगे आप इस पोस्ट को पढ़े उससे पहले ही आपसे पूछना चाहूंगा की इस मोबाईल का, इस टैब या लैपटॉप का जिसपे अभी आप मुझे पढ़ रहे है का आप क्या इस्तेमाल करते है? जानू-बाबू-सोना टाइप है या अपने फोटो के पीछे गाने लगाकर स्टोरी बनाने वाले या ऑनलाइन क्लास और भविष्य की चिंताओं में उलझे विद्यार्थी या फिर नौकरी पेशा वाले लोग जो मोबाइल को टाइम-पास के लिए प्रयोग करते है? आपसे ऐसा इसलिए पूछ रहा हूँ क्योंकि मैं आज यह समझना चाहता हूँ की आपलोग जिनके अधिकांश पोस्ट में जय श्री राम, हर हर महादेव, मोदी जी, नितीश-लालू होते है, जो अक्सर शत-शत नमन वाले पोस्ट डालते है पर अपने पंचायत के विकास कार्यों में, उसके लिए आप सब न तो कभी लिखते है न किसी और के लिखे पर कुछ बोल पाते है, क्यों? कहीं एलोन-मस्क की तरह आपका भी ठौर मंगल पर तो नहीं, अगर गाँव में है तो गाँव की खबर रखिये, अपने प्रतिनिधियों को शाबाशी दीजिये जिन्होंने पिछले ५ साल में गाँव में विकास का गंडक बहाया है और यह विकास वाली नदी लगातार बह रही है.
अगर आपने पिछले पोस्ट को नहीं पढ़ा है तो पढ़ लीजियेगा और जानकारी रखिये की सरकार ने आपके पंचायत के विकास के लिए कुछ इस तरह राशि खर्च की है. पंचायत- खरौना डीह को आवंटित राशि (कुल)
वित्तीय वर्ष 2017-18 = 91,05,800
वित्तीय वर्ष 2018-19 = 47,46,700
वित्तीय वर्ष 2019-20 = 65,41,173
वित्तीय वर्ष 2020-21 = 97,46,121
वित्तीय वर्ष 2021-22 = 46,70,066/65,90,000 (आवंटित राशि/टोटल प्लांड ऑउटले)
इस वर्ष हो रहे कार्यों की सूचि:
१. सार्वजनिक कुंआ का निर्माण- कार्यावधि- अप्रैल २०२१-जुलाई २०२१,अनुमानित राशि – ७ लाख ८० हजार
२. १ से १५ वार्ड में सोख्ता का निर्माण- कार्यावधि- अप्रैल २०२१-जुलाई २०२१,अनुमानित राशि – ७ लाख ६० हज़ार
३. १ से १५ वार्ड में ठोस अवशिष्ट प्रबंधन- कार्यावधि- अप्रैल २०२१-जुलाई २०२१,अनुमानित राशि- ८ लाख
४. सार्वजनिक शौचालय का निर्माण – कार्यावधि- अप्रैल २०२१-जुलाई २०२१, अनुमानित राशि- ९ लाख
५. प्राथमिक विद्यालय का जीर्णोद्धार- कार्यावधि- अप्रैल २०२१-जुलाई २०२१, अनुमानित राशि- ८ लाख
६. आँगनवाड़ी केंद्र का निर्माण – कार्यावधि- अप्रैल २०२१-जुलाई २०२१, अनुमानित राशि- ८ लाख
७. सामाजिक/सामुदायिक भवन का निर्माण- कार्यावधि- अप्रैल २०२१-जुलाई २०२१, अनुमानित राशि- ८ लाख
८. प्राथमिक विद्यालय में खेल के मैदान का विकास- कार्यावधि- अप्रैल २०२१-जुलाई २०२१, अनुमानित राशि- १.५ लाख
९. वार्ड १ से १५ में SAURAT ka विकास- कार्यावधि- अप्रैल २०२१-जुलाई २०२१, अनुमानित राशि- ४ लाख (वेबसाइट पर SAURAT ही मेंशन है)
१०. शवदाह गृह का निर्माण- कार्यावधि- अप्रैल २०२१-जुलाई २०२१, अनुमानित राशि- ४ लाख
कुल अनुमानित ख़र्च:6590000

अब अगले ४ महीने में जो योजनाओं की लड़ी है उसको देख के आपको नहीं लगता की नेताओं ने अच्छा काम किया है?? खैर ये जानकारी मुझे किसी वार्डर, पंचायत समिति या मुखिया ने नहीं दी है, आपको भी नहीं देंगे, पंचायती राज व्यवस्था का सबसे खूबसूरत पहलू आम-सभा तो चलन में है ही नहीं, पर भला हो मोदी के डिजिटल इण्डिया का और Egramswaraj के वेबसाइट का जहाँ ये जानकारी आप भी ले सकते पर क्या फायदा….?? खैर!!

Note: Above informations, screenshots were taken from

GOVERNMENT OF INDIA | MINISTRY OF PANCHAYATI RAJ

नल जल योजना और आगामी पंचायत चुनाव


अब जब पंचायत का चुनाव नजदीक है, बहुत से लोग अबकी अपने लिए हमसे-आपसे वोट मांगने आएंगे तब हमारे लिए भी यह मुश्किल होगा की कौन से चाचा/चाची/भैया/भौजी को जिताया जाए और कौन हमारे पंचायत में विकास की गाडी तेज दौड़ा सकते है, इसी चीज को समझने के लिए कल पंचायत के कुछ युवाओं से चर्चा की, जो चर्चा कम और एक बेहतर वाद-विवाद हो गया. चर्चा में सम्मिलित अधिकांश लोगों का यही मत था कि चाहे जो आये करना उसको घोटाला ही है. ऐसा कहने वाले एक युवा ने अपने बात में आगे जोड़ते हुए लिखा कि आजकल पंचायत में एक स्वघोषित ईमानदार युवा नेता हुए है जो फ़ेसबुक पर तो खूब लिखते है पर जिसके बारे में लिखते है उसके सामने जाते ही “भैयाजी प्रणाम” बोलते है, फिर वो फेसबुक पर या पीठ पीछे किसी के बारे में क्यों लिखते है जबकि सामने वही बात नहीं कह सकते? इस आरोप के जवाब में चर्चा में शामिल एक और युवा ने कहा की नेताओं का विरोध व्यक्तिगत नहीं होता बल्कि उनके गलत काम का विरोध होता है जो होना ही चाहिए। इस जवाब से असंतुष्ट एक युवा का मत था की चूकि लोग पैसा लेकर वोट देते है इसलिए नेताओं द्वारा लुटे जाने पर उनको भी आपत्ति नहीं होना चाहिए और फिर उसने अपनी बात में आगे जोड़ते हुए कहा की हमलोगों के बुजुर्ग और अध्यापक रहे बाबा को तो दस वोट भी नहीं परे थे जबकि वह बाकियों से बेहतर थे, ऐसा क्यों? क्योंकि अपने यहाँ चुनाव में टोला/मुहल्ला की भी राजनीती होती है, कोदरिया के लोग जयराम को वोट नहीं देंगे भले उम्मीदवार अच्छा हो, जयराम वाले डीह को और डीह वाले बसंत मोथहा को, अगर किसी तरह टोला/पट्टी का राजनीती कम हो जाये तो फिर जात का राजनीती होता है और ऐसे में रुपया वाला उम्मीदवार आगे जाता है क्योंकि रुपैया का न तो कोई टोला है न कोई ज़ात, मुर्गा वैसे भी सेक्युलर प्राणी है और शराब से जो प्रतिष्ठा गाँव ने अर्जित की है वह तो आजकल रोज अख़बार बोल ही देता है.
चर्चा बहस में बदल गई थी और वर्तमान प्रतिनिधियों के पक्ष और विपक्ष में भी लोग मुखर थे और एक ने कहा कि दुनिया का नहीं पता पर हमरा तो सारा काम करवाया है, २००० भले लिए पर १०,००० मिला भी तो और यह तो पुरे बिहार में ही हुआ है, चुनाव लड़ने में खर्चा नहीं होता क्या? तभी दूसरे ने टोकते हुए कहा कि तुम्हारा कुँआ तो ठीक हुआ नहीं, ऊपर से तुम्हारे वार्ड में न नल है न नल का जल फ़िर काम क्या करवाया? इसके जवाब क बदले आरोप लगा की फेसबुक पर आप भी लिखते है और इस लालच में लिखते है की ५०,००० मिले आपको। अब चुकि चर्चा नेताओं के काम के बदले चर्चा में शामिल लोगों पर केंद्रित होने लगी थी, हमने कहा की इस चर्चा को एक मंच देते है और हमलोग आनेवाले शनिवार या रविवार को एक कार्यक्रम रखते है, नाम देंगे “दालान पे दंगल” जहाँ हमलोग विस्तृत चर्चा करेंगे और दिखाएंगे की कैसे खरौना डीह, पछियारी पट्टी के तीन वार्डों में हुए नल-जल के काम में कितना अंतर् है, एक तरफ खूब बढ़िया नल है उसमे जल है, दूसरे तरफ वार्ड ८ में घटिया नल है पर जल नहीं है, और वार्ड ११ में न तो नल है न जल है जबकि हमलोग एक लाइन में सारे नेता को बेईमान बोल देते है जबकि अंतर् है, हमें इसी अंतर् को समझ कर कम बेईमान को चुनना होगा.

दालान पे दंगल में सम्मिलित होना चाहते है? कमेंट करे!

Kharauna

पंचायत समिति: परिचय, कार्य एवं दायित्व


पंचायत समिति एक परिचय

त्रिस्तरीय पंचायती राज व्यवस्था के अन्तर्गत पंचायत समिति मध्यवर्ती पंचायत के रूप में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह ग्राम पंचायत एवं जिला परिषद के बीच कड़ी का कार्य करता है। जिस प्रकार केन्द्र सरकार एवं राज्य सरकार के प्रषासनिक एवं विधायी सम्बन्धी सारे कार्य संविधान के नियमों के अनुकूल संचालित होता है, उसी प्रकार पंचायत समिति के सारे कार्य बिहार पंचायत राज अधिनियम, 2006 के विभिन्न धाराओं एवं नियमों के अनुकूल संचालित होता है। बिहार पंचायत राज अधिनियम, 2006 की धारा-34से लेकर धारा-61 तक में पंचायत समिति के सारे कार्यो को सम्मिलित किया गया है । पंचायत समिति का गठन प्रखंड स्तर पर होता है। ग्राम पंचायत की तरह प्रत्येक पंचायत समिति का प्रादेषिक निर्वाचन क्षेत्र होता है, जो लगभग 5000की आवादी पर निर्धारित होता है।

पंचायत समिति के कार्य एवं दायित्व

· केन्द्र तथा राज्य सरकार एवं जिला परिषद द्वारा सौपे गये कार्य करना ;

· सभी ग्राम पंचायत के वार्षिक योजनाओं पर विचार विमर्ष एवं समेकन करना तथा समेकित योजनाओं को जिला परिषद में प्रस्तुत करना ;

· पंचायत समिति का वार्षिक योजना बजट पेष करना ;

· प्राकृतिक आपदाओं से प्रभावित व्यक्तियों को राहत देना ;

· प्राकृतिक आपदाओं में प्रमुख को 25 हजार रूपया तक खर्च करने का अधिकार है ;

· कृषि एवं उद्यान की उन्नति एवं विकास करना, खेती के उन्नत तरीको का प्रचार प्रसार करना, किसानो के प्रषिक्षण का इंन्तजाम करना ;

· सरकार के भूमि विकास एवं भूसंरक्षण कार्यकलापों के कार्यान्वयन में सरकार और जिला परिषद की सहायता करना ;

· लघु सिंचाई कार्यों के निर्माण एवं अनुरक्षण में सरकार और जिला परिषद् की सहायता करना ;

• गरीबी उन्मूलन कार्यक्रम एवं स्कीमो का आयोजन और कार्यान्वयन करना ;

· पशुपालन एवं पशु चिकित्सा सेवा का विकास एवं विस्तार करना ;

· मत्स्य उद्योग के विकास को प्रोत्साहित करना ;

· खादी ग्राम एवं कुटीर उद्योग को प्रोत्साहित करना ;

· ग्रामीण आवास योजनाओं का कार्यान्वयन तथा आवास स्थल का वितरण करना ;

· ग्रामीण जलापूर्ति योजनाओं का कार्यान्वयन, मरम्मत एवं संरक्षण करना ;

· जल प्रदूषण की रोकथाम एवं नियंत्रण ;

· ग्रामीण स्वच्छता योजनाओं का कार्यान्वयन ;

· सामाजिक एवं फार्म वानकी के अन्तर्गत अपने नियंत्रणाधीन सड़को के किनारे और अन्य सार्वजनिक भूमि पर वृक्ष लगाना एवं उनका संरक्षण करना ;

· सड़क, भवन, पुल, जल मार्ग तथा संचार के योजनाओं को कार्यान्वयन एवं संरक्षण करना ;

· गैर परम्परागत उर्जा स्त्रोतो का पता लगाना उसके विकास हेतु आवष्यक कार्य करना ;

· शिक्षा के अन्तर्गत प्राथमिक विद्यालय भवनों का निर्माण मरम्मत एवं संरक्षण आदि कार्य करना ;

· तकनीकी प्रषिक्षण तथा व्यवसायिक षिक्षा का विकास करना ;

· वयस्क एवं अनौपचारिक षिक्षा एवं सर्वषिक्षा अभियान का कार्यान्वयन करना ;

· सांस्कृतिक कार्यकलाप के अन्तर्गत सांस्कृतिक एवं खेल कूद कार्य कलापों का कार्यान्वयन ;

· स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण के अन्तर्गत स्वास्थय एवं परिवार कल्याण कार्यक्रमों का कार्यान्वयन करना ;

· महिलाओं एवं बच्चो के कार्यक्रम को कार्यान्वयन करना तथा इनके विकास हेतु कार्यक्रम का निर्माण करना ;

· समाज कल्याण, जिसमें शारीरिक तथा मानसिक रूप से नि:षक्त लोगों के कल्याण हेतु कार्यक्रम तैयार करना तथा सरकार द्वारा चलाये जा रहे योजनाओं को कार्यान्वयन कराना ;

· कमजोड़ वर्गो विषेषकर अनुसूचित जातियों एवं अनुसूचित जन जातियों को कल्याण हेतु सरकार द्वारा चालायी गई योजनाओं का कार्यान्वयन करना ;

· जन वितरण प्रणाली के अन्तर्गत आवष्यक वस्तुओं का वितरण सुनिष्चित कराना ;

· ग्रामीण विद्युतीकरण के कार्यक्रमों का कार्यान्वयन ;

· सहकारिता के अन्तर्गत सहकारी कार्य कलापों का विकास करना ;

· पंचायत समिति क्षेत्र के अन्तर्गत वाचनालय एवं पुस्तकालय खोलने से सम्बंन्धित क्रिया कलापों को बढावा देना ;

· समय-समय पर सरकार द्वारा निर्देषित या सौपें गये अन्य कार्य करना ;

नोट: यह जानकारी बिहार सरकार पंचायती राज के वेबसाइट से ली गई है जिसका उद्देश्य जनता को जागरूक करना मात्र है।

भाजपा विधायक श्री केदार गुप्ता को सवालों से डर लगता है!


प्रणाम।

बिहार में चुनावी मंच सजने लगा है, और तभी चुपके से कोरोना के शोर को दबाया जा रहा है, सोशल डिस्टेंसिंग को भुलाया जा रहा है और हर रोज केंद्र से कुछ नए योजनाओं का घोषणा हो रहा है, जिसमें गांधी सेतु के पैरलल पुल, दरभंगा में AIIMS और अब IIM की घोषणा है। वहीं नीतीश कुमार वैशाली को रघुवंश के सपनों सा बनाने की बात कर रहे है पर ये भविष्य की बाते है, घोषणाएं है, जिसका हश्र सवा लाख करोड़ के पैकेज की तरह हो सकता है, इन वायदों का हाल मुजफ्फरपुर को बेचे गए “हवाईअड्डे के सपने” की तरह भी हो सकता है! आप पूछिये की स्मार्ट सिटी के घोषना बाद से शर्माजी का फायदा हुआ है या जनता का? विडम्बना यह है कि सत्ताधारियों को जैसे केंद्र में राहुल का सपोर्ट है वैसे ही बिहार में लालू के लालो का और तभी देश और राज्य में विकास की गंगा और गंडक बह रही है, जिसमे अब बिहार बहने लगा है!

ख़ैर पोस्ट का उद्देश्य आपको आज की एक घटना के बारे में बताना है जो हमारे पंचायत खरौना डीह में घटित हुई है। दरअसल आज माननीय विधायक श्री केदार गुप्ता जी ने अपने जनसम्पर्क कार्यक्रम के तहत ग्रामीणों से मिलने के लिए रामजानकी मठ पर एक बैठक बुलाई थी जहाँ गिने चुने लोग, जिनमे अधिकांश अनुभवी पोलिंग एजेंट थे और कुछ युवा जिनको सिस्टम से रोष है और जो अब अपने नेता से नाउम्मीद हो रहे है, मौजूद थे। यह मीटिंग वैसे तो मोनोलॉग ही होना था, बोले तो ‘मन की बात’ की तरह, जहाँ आप सिर्फ सुन सकते है पर इस मोनोलॉग को डायलॉग में बदलने का साहस किया स्थानीय युवा श्री सुमित कुमार ने, जिन्होंने माननीय से बड़ी शालीनता से किंतु एक कठिन प्रश्न पूछा कि आपने शिक्षा व्यवस्था को सुधारने के लिए कौन-कौन से प्रयास किये और इस मुद्दे पर क्या आपने कभी सदन में आवाज उठाई है? सुमित के इस प्रश्न का नेताजी ने तो कोई उत्तर नहीं दिया, और सवाल पूछे जाने के बाद भी इस चुप ही रहे और कहा कि आइये डेरा पर जवाब देंगे और फिर उनके माइक पकड़े कार्यकर्ता ने सुमित के आरोप को मान लिया और स्वीकारा कि मिडडे मिल में धांधली हो रही है और फिर चपलता के साथ उसने माननीय से आग्रह कर दिया कि वो इसके सुधार पे ध्यान दे!

तो कुल खबर ये है कि अब आपके प्रश्नों का जो नेता उत्तर देना भी उचित न समझे क्या आप उसके लिए झंडा ढोना उचित समझते है? क्या सुमित का प्रश्न उसके व्यक्तिगत लाभ का मसला था, जो वहाँ मौजूद अन्य महानुभावों ने विधायक जी से इसपर बोलने के लिए नहीं कहा? क्या किसी और को अपने नेता से कोई उम्मीद कोई प्रश्न नहीं था??

हो सकता है केदार गुप्ता जी आज अपना होमवर्क बिना किये ही जनसम्पर्क के लिए आ गए हो, तो क्या हम उम्मीद करे की अगली बार जब आप गाँव आएंगे तब, या फिर आपके कार्यकर्ता/ भावी पोलिंग एजेंट्स हमें बताएंगे कि

१. आपने कुढ़नी की समस्याएं, हमारी चिंताओं को कितनी बार विधानसभा में रखा, वो मुद्दे कौन थे?
२. बेरोजगारी दूर करने के लिए आपने और आपकी सरकार ने क्या पहल किया है कुढ़नी में?
३. सरकारी विद्यालयों की व्यवस्था देंखने आप कितनी बार गए, क्या आपने फ़र्जी टॉपर फर्जी शिक्षक बनाते सिस्टम के खिलाफ कुछ किया है?
४. किसानों की सुध लेते है आप, क्या आप बताएंगे आपने 5 साल में फूड प्रोसेसिंग, स्टोरेज, सॉइल टेस्टिंग जैसे अत्यावश्यक जरूरतों पर ध्यान दिया कभी?
५. क्या आपने कुढ़नी को शराब मुक्त, अपराध मुक्त बना दिया?
६. आपने अपने कौन कौन से वायदे पुरे किये, हमारे पंचायत में विधायक निधि से कितना काम कराया आपने?
७. भ्रष्टाचार मुक्त समाज के लिए आपकी जवाबदेही कितनी है जबकि सरकार के सात निश्चय के अंतर्गत सभी योजनाएं सिर्फ़ लूट का माध्यम बन गयी है. शौचालय, नलजल, सड़क, सोख्ता ईमानदारी कहाँ है? बताएंगे!
जय खरौना
हमसे फ़ेसबुक पर यहाँ जुड़े।

नोट- यह पोस्ट किसी अन्य दल को क्लीन चिट नहीं देता है।

कौन है ये लोग जो अब भी नाहर पर हगने जाते है?


शीर्षक देख कर नाक मत सिकोड़िये यह एक शीर्षक भर नहीं है बल्कि एक मासूम सवाल है जो आज हमारे एक भाई ने हमसे तब पूछा था जब हमने उससे SwachhApp में दिए गए जानकारी का हवाला देते हुए कहा कि गाँव मे मोदीजी के स्वच्छ भारत संकल्प के तहत अब हर घर मे निजी शौचालय की व्यवस्था कर दी गई है। यहाँ मैंने पूर्णविराम लगा लिया है पर उसने मेरे विराम से पहले ही यह प्रश्न पूछा था कि जब सबका शौचालय बन गया है तब ये कौन लोग है जो अब भी नाहर पर हगने जाते है? हमारा जो ऐसे लोगो के लिए अनुमान है मैंने वही उनसे उत्तर में दिया कि हो सकता है ये वो नवाबी लोग हो जिन्हें मैदान के लिए मैदान ही चाहिए होता हो 😊

ख़ैर ऊपर के बकवास बातों को कीजिये नजरअंदाज और एक डेटा देखिये-

स्वच्छ भारत के अंतर्गत भारत मे 2 अक्टूबर 2014 के बाद से लगभग 10 करोड़ 38 लाख, बिहार में लगभग सवा दो करोड़, मुजफ्फरपुर में लगभग 55 लाख, कुढ़नी में लगभग 44 हजार और हमारे खरौना डीह पंचायत में 1076 शौचालय 2 October 2014 के बाद से बना है और और इनकी संख्या कुल शौचालयों का 72% है, मतलब ये की गाँव में लगभग एक चौथाई लोगों के पास ही पहले से शौचालय था(?) प्रश्नवाचक चिन्ह डेटा के लिए पर हाँ एक बात ये सही है कि बहुत लोगों ने इस योजना का लाभ लिया है जिनके नाम अगर आप SwacchApp इनस्टॉल करते है तो आसानी से मिल जाएगा। कुछ को तो दो दो बार भी मिल गया है ऐसा प्रतीत होगा आपको, अगर आप नाम से सर्च करते है तो ममता देवी पति गोविंद पासवान ऐसा ही एक नाम है जिसकी तीन एंट्री है और दो में लाभ मिला है।

खैर अब हमारा पंचायत ODF declared पंचायत है, बोले तो खुले शौंच से मुक्त घोषित हो चुका है उसके बावजूद भी लोग सड़क किनारे हग रहे है ये बहुत गलत है और इनमें सबसे ज्यादा गंदगी नहरों पर है, जिसे मोदी कि के करोड़ो के कैंपेन का और हमारे तीखे शब्दों का असर नहीं होगा क्योंकि कहीं भी बैठ जाना आदत हो गया है, है ना?

ख़ैर, अब आप अगले पैरा में खरौना फेसबुक पेज के पोस्ट पढ़िए या ब्रेक लेकर चाहे तो कमीशन के अमाउंट की गणना/अनुमान करने को भी आप स्वतंत्र है! यदि आपका काम बिना किसी घुस के हुआ है तो अपने नेता को हमारे तरफ़ से धनबाद और राँची गिफ्ट कीजिये और अपने ईमानदार नेता के बारे में हमे भी बताइये ताकि उनके लिए हम कुछ लिखे। जागरूक जनता जोरदार प्रचारक होता है 😉 सच्ची! 😛

(आगे खरौना फेसबुक पेज का पोस्ट है, फुर्सत में है तभी पढ़िए वरना अपना समय ट्रम्प के लिए लगाइये We Need Him For 4 More Years )

प्रणाम!
उम्मीद है आप सब eGramSwaraj App में दिए हुए सूचना को जानकर हतप्रभ हुए होंगे, कुँवा कहाँ कहाँ खुदेगा, सोख्ता कहाँ बनेगा और कचड़ा प्रबन्धन के लिए कौन कौन से तरकीब किये जायेंगे इसको लेकर आप प्रबुद्धजन अपने अपने विचार ग्राम सभा मे रखने के लिए उत्सुक भी हो रहे होंगे और कुछ अत्यधिक व्यस्त बन्धु कमला हैरिस को जिताने के लिए अपनी प्रतिबद्धता के कारण अब तक इसको इंस्टाल न कर पाए हो पर शायद 3 नवम्बर बाद वो भी हमारे यहाँ बहते विकास के गंडक को देख कर फुले न समायेंगे ऐसा ट्रम्प टीम को लगता है। 😊

खैर यह पोस्ट आपको एक और App के बारे में जानकारी देने के लिए है जिसका नाम है SwachhApp जो भारत सरकार के Department of Drinking Water And Sanitation के द्वारा उपलब्ध है जहाँ से आप न केवल शौचालय लाभार्थियों की सूचि देख सकते है बल्कि अपने गाँव की स्वच्छता के लिए वोट भी कर सकते थे।
इनस्टॉल के लिए नीचे क्लिक करे
https://play.google.com/store/apps/details?id=nic.rws

अब तक किसी ने रेटिंग नहीं दिया था, एडमिन ने श्री गणेश कर दिया है बाकी अब उन बन्धुओ के भरोसे जो ट्रम्प के चुनाव प्रचार से या रिया की टेंशन से फुर्सत निकाल कर SwachhApp को एक बार देखेंगे और रेट अवश्य करे। बाक़ी जानकारी मुफ्त है।

पोस्ट पढ़ने वालों के लिए एक सूचना ये भी है कि इस पेज के पाठकों की जानकारी बढाने के साथ साथ उनको पेज से जोड़े रखने के लिए हम जल्द ही एक क्विज कराएंगे, सिलेबस हमारा पोस्ट ही होगा 😉 अहम सिलेबास्मी!! कुछ क्रिएटिव भाई साथ आएंगे तो हौसला बढ़ेगा 🙂

SwachhApp has data of all the beneficiaries and, is also useful to Rate the cleanliness of your village. Have a look once. To install click below.
https://play.google.com/store/apps/details?id=nic.rws

Jai Kharauna

This slideshow requires JavaScript.

विकास की बहती गंडक में नहाया खरौना डीह पंचायत


प्रणाम।
यह पोस्ट थोड़ी लम्बी होगी अतः व्यस्त बन्धुजन चाहे तो स्क्रॉल करे पर अगर आप भी मेरी तरह गाँव से दूर रहकर भी गाँव मे हो रहे विकास कार्यों के बारे में जानना चाहते है तो यह पोस्ट आपके लिए ही है। हम और आप हमेशा चाहते थे कि हमारे पंचायत में हो रहे विकास कार्यों के बारे में जानकारी मिले पर इसके लिए अख़बार में जगह थी नहीं, लोकचर्चाओ में, अलाव पर, चाय पर, भोज में, और तमाम तरह के आपसी गप्प में भी अब सब मोदी और ट्रम्प को ही डिस्कस करते है तो बेचारे वार्ड मेम्बर के कार्य की समीक्षा, उनके द्वारा हो रहे उत्कृष्ट कार्यो की सराहना कौन करे?? और अब जब आप पूछेंगे नहीं तो वो बेचारे बताएंगे कैसे? वो मोदीजी जैसे बड़बोले तो है नहीं ! वैसे पिछले का पता नहीं पर अगला आमसभा क्या ऑनलाइन होना चाहिए इसपे आप जरूर चर्चा कीजिये, हम परदेसिये भी आ जाएंगे फिर तो और आगर इसके लिये ट्रेनिंग की जरूरत हुई तो वह भी उपलब्ध करा देंगे! क्लिक भर की दूर रहेगी तब तो और फिर हम सब के लिए आपने नेतवन के साथ जुमियाने का अलगे तज़ुर्बा रहेगा, है कि नही 😉

वैसे जब तक आमसभा होता नहीं तब तक आप चाहे तो प्लेस्टोर से eGramSwaraj एप्प इंस्टॉल कर सकते है जो कि Ministry of Panchayati Raj, Govt of India द्वारा उपलब्ध कराया गया है, और वहां से आपको आपके पंचायत के लिए आवंटित राशि की सूचना मिल जाएगी। उसी एप्प से मैंने भी अभी अभी कुछ जानकारी ली है जो नीचे दे रहा हूँ, इसकी पुष्टि आप eGramSwaraj App को इनस्टॉल कर चेक कर ले।

पंचायत- खरौना डीह को आवंटित राशि (कुल)
वित्तीय वर्ष 2017-18 = 91,05,800
वित्तीय वर्ष 2018-19 = 47,46,700
वित्तीय वर्ष 2019-20 = 65,41,173
वित्तीय वर्ष 2020-21 = 97,46,121

योजनावार
नल जल योजना में आवंटित राशि
वार्ड नं 14 = 26,89,000(2017-18)
वार्ड नं 6 = 18,76,000(2017-18)
वार्ड नं 8 = 25,14,000(2017-18)
वार्ड नं 9 = 20,54,000(2018-19)
वार्ड नं 1 = 19,47,700(2018-2019)

PCC कार्य
वार्ड 14 = 5,62,000 (2017-18)
वार्ड 9 = 2,23,000 (2017-2018)
PCC KARYA** = 3,72,000 (2018-19)
PCC KARYA** = 3,72,600 (2018-19)
PCC KARYA** = 9,00,000 (2019-20)
PCC KARYA** = 15,00,000 (2019-20)
PCC KARYA** = 15,00,000 (2019-20)
PCC KARYA** = 26,41,173 (2019-20)
(** App में वार्ड या कोई डिटेल नहीं है बस पीसीसी कार्य लिखा है, सहयोग उनका भी समझिए 😉 )

वित्तिय वर्ष 2020-21 के लिए आवंटित राशि 97,46,121 (कुल)
१. कुंआ निर्माण# – 13,56,000
२. शौचालय निर्माण – 28,11,000
३. कुंआ निर्माण# – 14,69,000
४. कचड़ा प्रबंधन – 13,60,000
५. शोखता निर्माण – 16,75,000
६. कुआं निर्माण- 21,47,000
(# app में कार्य डिटेल में KUWN NIRMAN मेंशन है उम्मीद है कुंआ ही है 😉 )

हां तो लगभग एक करोड़ का कार्य इस साल हो रहा है, उम्मीद है लोकल के लिए वोकल होते हुए स्थानीय लोगो को इन विकास कार्यों को कराने के लिए रोजगार का अवसर मिला होगा और मुख्यमंत्री निश्चय योजना के अंतर्गत नल जल योजना के फलित हो जाने के बाद अब सभी लोग नल का जल ले रहे होंगे, पर फिर जब नल आ गया है तो इस साल दो कुआं क्यो?

इसे समझने के लिए आइये हम सब अपने कर्मठ और ईमानदार नेताओं से वीडियो कांफ्रेंस कर जानकारी देने का आग्रह करे। कर सकते है या हम सभी अभी ट्रम्प को अगले 4 साल फिर बनाये रखने के लिए ही 3 नवम्बर पर फोकस करेगे, क्या बोलते है?

वैसे बता दूं eGramSwaraj App 10 MB से कम का है आप अवश्य इंस्टाल कीजिये और खरौना डीह में बहते विकास की तीव्र गति को यहाँ के इंटरनेट स्पीड से कम्पेयर कीजिये, विकास जीतेगा ऐसा मेरा मत है!

शुभ रात्रि!(सारे डेटा App से लिये गए है और टाइपिंग को प्रूफरीडिंग कराया है, और जिनको पक्का जानकारी चहिय्ये आमसभा का इंतजार करे या RTI मर्ज़ी आपकी। और एक महत्वपूर्ण बात इसके अलावा भी बहुत से विकास काम हुए है, गुप्ताजी का शिलान्यास, कोरोना फंड, बाढ़ राहत इससे जुड़ी जानकारी भी नेताजी से पूछना चाहिए है कि नहीं?

जय श्री राम।)

App इंस्टॉल करने के लिए नीचे क्लिक करे।

https://play.google.com/store/apps/details?id=nic.in.unified